Desh Nu Chalo

23rd march 1931 shaheed

Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो
Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो

Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो
Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो

हो देश मांगता है कुरबानिया
देश मांगता है कुरबानिया
कानू परदेशा विच डोलिए जवानिया

देश नु चलो देश न चलो
देश नु चलो देश न चलो

23rd March 1931 Shaheed

मातृभूमि ने हमे बुलाया है अब जाना होगा
मातृभूमि ने हमे बुलाया है अब जाना होगा
जंजीरों मे खडी है वो उसको छूडाना होगा
अब ना सहेंगे हम गैरो की गुलामीया

देश नु चलो देश नु चलो
देश नु चलो देश नु चलो
हो देश मांगता है कुरबानिया
देश मांगता है कुरबानिया
कानू परदेशा विच डोलिए जवानिया

Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो
Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो

हो देश नु चलो देश नु चलो
देश नु चलो देश नु चलो
हो देश मांगता है कुरबानिया
देश मांगता है कुरबानिया

कानू परदेशा विच डोलिए जवानिया

ओए देश नु चलो देश नु चलो
देश नु चलो देश नु चलो

23rd March 1931 Shaheed

23rd March 1931 Shaheed

अपने हाथों से लिखेंगे हम अपनी तकदीरे
अपने हाथों से लिखेंगे हम अपनी तकदीरे
चक्क ले बंदुका पैजा टुटके ओ हानिया
ओए देश नु चलो
देश नु चलो

जहां पे दी गुरु गोविंद सिंह ने बेटो की कुरबानी
जहां पे दी गुरु गोविंद सिंह ने बेटो की कुरबानी
मिट गयी देश की खातिर जहां पे झांसी वाली रानी
चलो वहां लिख दे आज़ादी की कहानिया

देश नु चलो देश नु चलो
देश नु चलो देश नु चलो
हो देश मांगता है कुरबानिया
देश मांगता है कुरबानिया
कानू परदेशा विच डोलिए जवानिया

Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो
Desh nu Chalo Desh nu Chalo
देश नु चलो देश न चलो

23rd March 1931 Shaheed

जे तु आशिक बनेया ए …
चल दिलां खेड इश्क दी बाजी …
एसी वखरे फकीर, साड्डी वखरी ए हीर …
जिन्नु कहंदे ने लोग ‘अजादी’

गैरा दी गुलामी नाल यार दी आज़ादी चंगी

अपने लई जीना कादा जीना ए

मरना जे एक दिन मरिये किसे दे लई

मर्दा दा कम जहर पीना ए

इस इश्क हबीबी नु

इस इश्क हबीबी नु

ना चोन्दें लोग किताबी

जे तु आशिक बनेया ए …
चल दिलां खेड इश्क दी बाजी …
एसी वखरे फकीर, साड्डी वखरी ए हीर …
जिन्नु कहंदे ने लोग ‘अजादी’

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!